Examinations / CCE

सतत व्यापक मूल्यांकन

 शिक्षा एक अद्वितीय निवेश है और जवाबदेही का आकलन इसके उद्देश्यों के संदर्भ के साथ एक सुनियोजित तंत्र के माध्यम से ही संभव है। परीक्षा में ' अपनी पारंपरिक अर्थों शिक्षा के उद्देश्यों को प्राप्त करने में विफल रहा है। सतत व्यापक मूल्यांकन की योजना का परिचय, इसलिए, de-emphasis बाह्य परीक्षाओं की व्यवस्था करने के लिए एकमात्र विकल्प है। इस योजना को प्रभावी ढंग से सभी JNVs में निम्नलिखित उद्देश्यों के साथ 1989-90 के बाद से शुरू किया गया है | मूल्यांकन को अधिग्रम प्रक्रिया का एक अभिन्न अंग बनाने के लिए। छात्र उपलब्धि और सीखने की रणनीतियों उपचारात्मक निर्देशों का पालन करके नियमित रूप से निदान के आधार पर शिक्षण में सुधार के लिए मूल्यांकन का उपयोग करने के लिए।सीसीई योजना, सीबीएसई ने शुरू किया तथा हमेशा के लिए शिक्षा का चेहरा बदलने का वादा किया। हालांकि, सीसीई के लिए एक सरल और स्पष्ट अभिविन्यास के अभाव में, शिक्षकों, छात्रों और अभिभावकों को लाभ मिलना एक कठिन कार्य रहा है सीसीई की व्यावहारिकताओं को समझाने के लिए और यह बुनियादी उपकरणों और संसाधनों के साथ प्रदान करने के लिए एक विनम्र प्रयास है।  

 

Continuous Comprehensive Evaluation

 

Education is a unique investment and accountability is possible only through a well planned mechanism of assessment with reference to its objectives. Examination in 'its traditional sense has failed to achieve the objectives of education. Introduction of the Scheme of Continuous Comprehensive Evaluation is, therefore, the only alternative to de-emphasis the system of external examinations. The Scheme has been introduced effectively in all the JNVs since 1989-90 with the following objectives : To make evaluation an integral part of teaching learning process. To use evaluation for improvement of students achievement and teaching learning strategies on the basis of regular diagnosis followed by remedial instructions.

The CCE scheme, introduced by CBSE, promises to change the face of education forever. However, in the absence of a simple and clear orientation to CCE, teachers, students and parents are having a tough time in reaping the benefits. CCE Corner is a humble attempt to explain the nitty-gritty of CCE in a simple, crisp way and to provide you with the basic tools and resources. 

 

सीसीई क्या है?
·         सीसीई सतत व्यापक मूल्यांकन के लिए लागू है |
·         निरंतर नियमित रूप से मूल्यांकन करने और प्रत्येक अध्याय या प्रत्येक अवधि के अंत या पूरी तरह से लेकिन हर साल के अंत में न सिर्फ छात्र की प्रगति का मतलब है
·         व्यापक मूल्यांकन का अर्थ है छात्र का विकास, मानसिक, भावनात्मक और शारीरिक पहलुओं अर्थात्., सब दौर विकास
·          विभिन्न विधियों का उपयोग कर के छात्र के विकास का आकलन और प्रगति और अन्य सभी का मूल्यांकन करने के लिए मूल्यांकन 
·         संक्षेप मेंइसमें सीखना , प्रयोग और आकलन शामिल हैं
सीसीई एक शिक्षार्थी प्रोफाइल का निर्माण किस प्रकार करता है?
·         सीसीई एक विद्यार्थी का विकास और आकलन के माध्यम से - सभी क्षेत्रों के आधार पर ले जाता है
·         शैक्षिक और सह शैक्षिक गतिविधिया का नियमित मूल्यांकन
·         संबंधित स्कूल पाठ्यक्रम विषयों, असाइनमेंट्स, प्रोजेक्ट्स, व्यावहारिक और मौखिक काम करने के लिए शैक्षिक साधन
·         सह-शैक्षिणक साधन सह पाठयक्रम गतिविधियों, शारीरिक विकास, जीवन कौशल, मूल्यों और व्यवहार करने के लिए संबंधित
आकलन और मूल्यांकन के लिए उपकरण क्या हैं?
·         सीसीई स्कीम का आकलन एक छात्र का मूल्यांकन करने के लिए प्रारंभिक और योगात्मक आकलन उपकरण है सभी दौर भी प्रगति प्रदान करता है
·         प्रारंभिक आकलन सतत और Summative वर्ष के अंत में किया जाता है
·         एफए और एसए उपकरणों और तकनीकों के विभिन्न प्रकार होते हैं: परीक्षण, कार्य, क्विज, प्रोजेक्ट, बहसदीर्घ, लघु प्रश्न उद्देश्य, प्रेक्षण, साक्षात्कार, आदि।
·         FA संख्या में चार हैं और पहली बार में और एक और 20% 20% वेटेज दिया जाता है दूसरे कार्यकाल के दौरान
·         एसए  दो  हैं और इसे 30% वेटेज दिया जाता है , 30% वेटेज में दूसरे कार्यकाल में
·         FA के लिए कुल वेटेज 40% के बराबर है |
·         कुल वेटेज SA के लिए 60% के बराबर है |

 

What is CCE?

 

  • CCE stands for Continuous Comprehensive Evaluation
  • Continuous means regular evaluation and assessment of the student’s progress, not just at the end of each chapter or each term or end of each year but all through
  • Comprehensive means mental, emotional and physical aspects of the student’s development, ie., all round development and assessment
  • Evaluation means to assess and evaluate the progress and all round development of the student using various methods
  • In short, it includes learning, application and assessment

 

How does CCE create a learner’s profile?

  • CCE takes into account all areas of a student’s development and its assessment through-
  • Regular assessment of scholastic and co-scholastic domains
  • Scholastic means related to the school curriculum subjects, assignments, projects, practical and oral work
  • Co-scholastic means related to co-curricular activities, physical development, life skills, values and attitudes

 

What are the tools for assessment and evaluation?

  • CCE scheme provides Formative and Summative Assessment tools to assess and evaluate a student’s all round progress
  • Formative Assessment is carried out throughout the year and Summative at the end of the term/year
  • FA and SA tools and techniques are of various types: tests, assignments, quiz, project, debate, long, short, objective, observation, interview, etc.
  • FA are four in number and are given 20% weightage in the first term and another 20% during the second term
  • SA are two in number and are given 30% weightage in the first term and 30% weightage in the second term
  • Total weightage to FA is equal to 40%
  • Total weightage to SA is equal to 60%

 

Rubrics क्या हैं?
·         शिक्षक rubrics नामक उपकरण मापदंड से छात्र द्वारा किये जा रहे के काम मुल्याकित करता है |  
·         वहाँ विभिन्न पूर्व निर्घारित और मापदंड हैं
·         इन मापदंड का मूल्यांकन के प्रयोजन के लिए महत्व दिया जाता है |
·         Rubrics शिक्षकों, छात्रों और अभिभावकों की मदद करता है | 


नमूना सरनामा:


मापदंड

पैरामीटर

पैरामीटर

पैरामीटर

पैरामीटर

अधिकतम मार्क्स

 

शुरुआत
(सुधार की जरूरत)


(औसत)

मीटिंग (
अच्छा)


(उत्कृष्ट)

 

से अधिक 
(उत्कृष्ट)

कोई सामग्री तालिका

सामग्री अपूर्ण तालिका।

पृष्ठ क्रमांक के साथ शामिल

एक साफ दिनांक और पृष्ठ संख्याओं के साथ सामग्री तालिका

2

सामग्री

नोटबुक के कई वर्गों अनुपलब्ध हैं

कुछ अनुभाग नोटबुक की याद कर रहे हैं

नोटबुक की एक अनुभाग अनुपलब्ध है

नोटबुक का कोई अनुभाग अनुपलब्ध हैं।

2

संगठन

एक तार्किक क्रम में कार्य

कुछ असाइनमेंट एक तर्कसंगत अनुक्रम में नहीं हैं।

एक या दो कार्य एक तर्कसंगत अनुक्रम में नहीं हैं

सभी कार्य एक तर्कसंगत अनुक्रम में रखा जाता है।

3

प्रस्तुति

बहुत ही असंगठित

नीचे संतोषजनक अवस्था।

संतोषजनक अवस्था।

कुल मिलाकर नोटबुक बहुत साफ रखा है

3

 

 

 

 

कुल

10

Rubrics कैसे मदद करते हैं?

मापदंड सूचीबद्ध हैं और छात्र द्वारा किये किसी भी काम के लिए निर्धारित मानकों को साफ़ करते हैंसे निम्न लाभ प्राप्त कर रहे हैं-
शिक्षक:
·         विद्यार्थी के कार्य का मूल्यांकन करने पर कम समय खर्च होता है | 
·         छात्र के काम पर टिप्पणी करने में, किसी आइटम को चिन्हित लगाना आसान हो जाता है
·         पैरेंट बैठकों में छात्र के प्रदर्शन का आसान विवरण
छात्र:
·         छात्र स्पष्ट हैं, क्या उनमें से बाहर शिक्षक की उम्मीद
·        छात्रों अपने काम की गुणवत्ता के लिए अधिक विचारशील हो गया |
·         अपने काम के प्रति जिम्मेदारी की अपनी भावना बढ़ जाती है |
·         वे अपनी ताकत और कमजोरी से और अधिक स्पष्ट हो रहे हैं तथा उन्हें लगातार धक्का दिया जा की आवश्यकता नहीं है
माता पिता:
·         माता-पिता उन क्षेत्रों जहां बच्चे को सफल होने के लिए और अधिक प्रयास करने की जरूरत है से अवगत होते है
·         माता-पिता अपने बच्चों का घर में इन क्षेत्रों में सफलतापूर्वक मार्गदर्शन कर सकते हैं

 

What are rubrics?

  • Tools called rubrics help the teacher to list criteria for the work to be done by the student
  • There are various pre-decided parameters and criteria
  • These criteria are given weightage for the purpose of assessment
  • Rubrics help the teachers, students and parents



Sample rubric:


CRITERIA

PARAMETERS

PARAMETERS

PARAMETERS

PARAMETERS

Maximum marks

 

Beginning
(Needs improvement

Approaching
(Average)

Meeting(
Good)

Exceeding
(Excellent)

 

Exceeding 
(Excellent)

No table of contents

Incomplete table of contents.

Included with page numbers

A neat table of contents with date and page numbers

2

Content

Many sections of the notebook are missing

Some sections of the notebook are missing

One section of the notebook is missing

No sections of the notebook are missing.

2

Organisation

Assignments in a logical sequence

Some assignments are not in a logical sequence.

One or two assignments are not in a logical sequence

All assignments are kept in a logical sequence.

3

Presentation

Very disorganised

Below satisfactory condition.

Satisfactory condition.

Overall notebook is kept very neat

3

 

 

 

 

Total

10

How do rubrics help?

When the criteria are listed and clear standards set for any work to be done by the student, following benefits are derived for -


TEACHERS:

  • Less time spent on evaluating the student’s work
  • Commenting on the student’s work becomes easier by circling an item in the rubric
  • Easy explanation of student’s performance at parent meetings


 

STUDENTS:

 

  • Students are clear what the teacher expects out of them
  • Students become more thoughtful of the quality of their work
  • Increases their sense of responsibility towards their work
  • Students do not need to be constantly pushed as they are more clear of their strengths and weakness



PARENTS:

  • Parents get to know the areas where their child needs to put in more efforts to be successful
  • Parents can successfully guide their children in these areas at home